शुरू करें ये डिमांडेड बिजनेस ! लाखों की होगी कमाई, सरकार भी देती है सब्सिडी Daily Update, Yojana, Scheme, Jobs, Business, Finance

0
40

दूधिया मशरूम खेती का व्यवसाय: देश के अधिक लाभ कमाने के लिए विभिन gon. इसी कड़ी किसानों का मशरूम की खेती में रुझान को मिल रह Ok है. किसान भाई मशरूम की किस्में उगाकर अच्छी कमाई कर रहे।। Product name:

दूधिया मशरूम खेती: अगर आप भी से अपनी आय बढ़ाना चाहते हैं मशरूम की खेती एक बेहतर विकल्प हो सकता. बस कुछ ब Siguz विभिन्न राज्यों किस किस Sigu मशरूम की खेती के किसान किसी भी कृषि केंद्र या कृषि विश्वविद्यालय में प्रशिक्षण ले हैं हैं ।।।।।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।।।।।

किसान भाई मशरूम की किस्में उगाकर अच्छी आमदनी कर रहे ।। ।। इन किस्मों में, बटन मशरूम बाद दूध मशरूम भारत में सबसे व्यापक से उगाई जाने वाली है दूधिया मशरूम को आम भाषा में दूधिया भी कहा कहा ाा दूधिया मशरूम एक बटन बटन मशरूम की तरह दिखता है।।।।।। लेकिन बटन की तुलना में दूधिया मशरूम का तना, मांसल और काफी मोटा है ।।।।।।।। Product name:

दूधिया मशरूम उगाने के फायदे:

. इस मशरूम की ऊपरी परत (टोपी) जल्दी खुल जाएगी। इस कारण मशरूम को अन्य मशरूम की अपेक्षा अधिक दी जा रही है ।।।।। ।।।।। दूध मशरूम खेती के लिए कम जगह की होती है और यह कम वाली, उच्च लाभ वाली फसल है ।। दूधिया मशरूम सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसे समय तक स्टोर किया जा सकता।।

Username:

दूधिया मशरूम खेती के लिए उच्च तापमान की आवश्यकता होती ।। इसलिए इसकी ऐसी जगह करें जहां तापमान ज्याथॾ दॾ इसकी में 25 से 35 डिग्री तापमान कवक या बीज जमाव के ع ع के के उपयुक्त होता होता है, और आर्द्रता आर्द्रता आर्द्रता आर्द्रता आर्द्रता आर्द्रता आर्द्रता आर्द्रता आर्द्रता आर्द्रता आर्द्रता से होनी होनी उपयुक्त उपयुक्त उपयुक्त होता होता होता होता होता होता होता है है है होता होता होता उपयुक्त च चija दूधिया मशरूम की खेती में तापमान 38 से 40 डिग्पी .इपी दूधिया की खेती के लिए यदि तापमान 40 डिग्री से अधिक तो इसकी फसल को नुकसान हो सकता है ।।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।।

Username:

दूधिया मशरूम बिजाई करने के लिए आपको एक किलोग्र म म और सूखा भूसा अपने बीजों उपचा उपचा दूधिया मशरूम बुवाई में छिड़काव विधि अपनाई जा सकती है, या सतह पर पर भी बुवाई की की जा सकती ।।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।। ।। सतही बुवाई लिए लिए 15-16 इंच चौड़े और 20-21 इंच लंबे बैग में पुआल की Gres भूसे की एक पर बीजों को बिखेरने के बाद उसके ऊपर पुआल की एक और और परत बिछा दी जाती है और उस पर से बीज बो बो बो बो बो दिए जाते।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।।। हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं Electric Electric 3 4 4 4 4 4 4 4 4 4 4 4 4 4 4 इस इसे सतह पर बोया जाता है। एक बैग में 3-4 किलो उपचारित बीज भरे जाते हैं। “”

दूधिया मशरूम खेती के लिए आवरण मिश्रण और आवरण परत बिछाने की:

दूधिया मशरूम बीज को थैलियों में बोने के बाद 15 से 20 दिनों के भूसे पर सफेद फंगस फैल जाता है ।।।।।।।।।। मशरूम को कोट करने का यह सबसे अच्छा समय है। आवरण मिश hubte इन सभी चीजों को अच utar मिश्रण में की गंध नहीं होती है। इसके बाद बैग का मुंह खोलकर केसिंग मिश्रण की 2-3 सेंटीमीटर मोटी परत के चा चा इस प्रक के दौरान दौरान दौरान 80 से 90 प्रतिशत आर्द्रता और 30 से 35 डिग्री तापमान बनाए रखने रखने की की आवश्यकता होती ।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।।।।।।।।

दूधिया मशरूम की खेती – प्रमुख कीट और रोग:

दूधिया के उत्पादन के दौरान कमरे में अधिक और नमी के कारण बीमारियां आम बात है ।।। इसलिए दूधिया की खेती करते समय साफ-सफाई विशेष ध्यान देना चाहिए।

  • दूध मशरूम कीट:

दूधिया मशरूम डिप्टेरियन और फोरॉयड मक्खी का संक्रमण अधिक आम ।।।।।।।।।। ।।।।।।।।।। इसलिए मशरूम फसल की बुवाई से लेकर कटाई की साफ-सफाई विशेष ध्यान देना होगा। इसके समय समय-समय प ECER कमरे के और आसपास पानी जमा न होने।।।।।।।।।।।।।।। इसके अलावा ट्रैप ऑयल में भीगे हुए ¢ ¢ के के कागज ट्यूब लाइट या बल्ब के नीचे प्रोडक प्रोडक प्रोडक guna

  • स्पॉनिंग रोग:

Keep going. इस खरपतवार रोकथाम के लिए समय-समय ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव करना चाहिए।।

दूधिया मशरूम की खेती – कटाई, उत्पादन और लाभ:

बुवाई के 30 से 40 दिनों के बाद, मशरूम कटाई के तैयार हो जाते हैं ।।।।।। ।।।।।। मशरूम को समय उसे कभी भी औजार से काटना चाहिए, हल्के हाथों से उसे जमीन से तोड़ लेना चाहिए। जब दूधिय me इसके तने के गंदे निचले हिस्से को काटकर 4-5 छेद वाली थैली थैली में पैक कर दें। लगभग 1 किलो सूखे भूसे एक बैग से लगभग 1 किलो ताजा मशरूम मिल है।। 12 15 15 15 15 15 15 15 15 15 15 15 मशरूम का बाजार भाव 170 से 270 रुपये प्रति किलो बीच है, जिससे किसान दूध की से से ज्यादा मुनाफा कमा सकते हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं.

दूधिया मशरूम की खेती के लिए महत्वपूर्ण बिंदु:

  • दूध की खेती बंद कमरों में की जाती जहां मशरूम की खेती आयताकार में की जाती है ।।।।।।।। ।।।।।।।। साथ दूधिया मशरूम की खेती वर्तमान में ग्रीनहाउस अन्य तकनीकों का उपयोग करके जा रही है ।।।।।।।।
  • दूधिया मशरूम खेती के लिए उपयुक्त आर्द्रता की आवश्यकता है क्योंकि मशरूम कवक केवल स्थानों में ही उग सकता है, इसलिए उत उत्प क क क क में में उपयुक उपयुक उपयुक उपयुक उपयुक उपयुक उपयुक उपयुक उपयुक उपयुक उपयुक उपयुक उपयुक उपयुक उपयुक उपयुक उपयुक उपयुक उपयुक उपयुक उपयुक उपयुक उपयुक उपयुक उपयुक उपयुक में में
  • दूधिया मशरूम के को नमी और आवश्यक पोषण प्रदान करने लिए चावल, घास य Case लग फसल के भूसे है है ज ज ज ज ज ज ज ज ज ज ज ज ज ज ज ज ज ज ज ज ज ज ज ज

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here